Follow Us:

Youth Destination

IAS PCS

Home Mains Strategy Mains Strategy Paper -4

How to Prepare General Study Paper 4 (Ethics)

For Hindi – click here


 It’s time for new topic that is very important for your exam. This is general study paper -4 (Name as Ethics but also about Integrity, Aptitude). If we explain the nature, it is a wonderful, fun generating and very high scoring (among all 4 GS papers) subject in UPSC.

  • Ethics study is a daily dose medicine for you that have power to make you a batter human and the evolution of a person directly or indirectly influenced by the ethical conduct. So, my suggestions before starting preparation, prepare it on the basis of current affairs. Understand the concept, and link it in your past life and analyse.
  • It is not a technical subject and it not requires too much extensive out learning. So please focus on theories, features, thinkers and other subjective information of ethics.

The objective of the paper is simply to check your ethical side. Good conceptual knowledge along with ability to use that knowledge contextually will be sufficed.  So, this paper requires lot of introspection, developing a proper insight into the subject. Unlike other papers, one has to relate ethical concepts to real life situations. It goes much beyond rote learning and theoretical understanding of the subject. One needs to clarify understanding about justification and moral obligations. Through case studies and success stories, one has to explore practical solutions to various behavioral problems in the society.

To prepare for the ethics exam for IAS, you have to focus on Philosophy, Psychology, Sociology and Public Administration. Why these subjects are important – to know all answer please read whole article.   Click here for syllabus

 


सामान्य अध्ययन IV – 250 मार्क्स

(नीतिशास्त्र, सत्यनिष्ठा और अभिरुचि) 

(Ethics, Integrity and Aptitude)


This paper will include questions to test the candidate’s attitude and approach to issues relating to integrity, probity in public life and his problem-solving approach to various issues and conflicts faced by him in dealing with society. Questions may utilize the case study approach to determine these aspects. The following broad areas will be covered.

 


सामान्य अध्ययन IV –टॉपिक 1

नीतिशास्त्र तथा मानवीय सह-संबंधः मानवीय क्रियाकलापों में नीतिशास्त्र का सार तत्त्व, इसके निर्धारक और परिणाम; नीतिशास्त्र के आयाम; निजी और सार्वजनिक संबंधों में नीतिशास्त्र,

मानवीय मूल्य- महान नेताओं, सुधारकों और प्रशासकों के जीवन तथा उनके उपदेशों से शिक्षा; मूल्य विकसित करने में परिवार, समाज और शैक्षणिक संस्थाओं की भूमिका।

Ethics and Human Interface: Essence, determinants and consequences of Ethics in human actions; dimensions of ethics; ethics in private and public relationships.

Human Values – lessons from the lives and teachings of great leaders, reformers and administrators; role of family, society and educational institutions in inculcating values.


In this segment try to find the answer of following question –

  • What is Ethics and its Dimensions?
  • What is Ethical essence & what is Approaches?
  • What is Basic concept of ethics morality and value?
  • What is Ethics in public life Economic Life?
  • What is difference between Freedom and Discipline, Duties and Rights & etc?
  • What is Virtue Ethics, Consequences of Ethics in Human Actions, Values and Ethics in Government: Legislature, Executive and judiciary and many issue
  • What is the process of value formation?

You can batter understand the topics by given flow chart.

If you want to know essence of ethics you must know the following point of flowchart.

  • And another aspect of ethics is its dimension.

Dimension can be divided as –

Next aspect of the topic is ethics in private and public relationship –

Every Individual of society play a vital role in shaping the behavior of others. Every day, we play different roles which was governed by various “norms and principals. Every relation has its own irreplaceable value. Each of it has its own unique history, character, and set of implicit and explicit understandings about what is to be expected of the parties to it.  The governing factors for ethics in private relationships include individual virtues, universal human values, religion, social norms and law and for Public relationships is governed by many aspects. They may or may not be inherited.

So, to understand these things we will study the following aspect and its dimension

Another part of the ethics is human value. Human value are the principles, convictions and internal beliefs that people adopt and follow in their daily activities. Professional ethics are built on the principles of human values. Human values are a set of consistent measures and behaviors that people choose to follow and practice as they strive to do what is right or what society expects them to do. Laws and legislative guidelines are generally shaped by a general idea of human values. So, to understand the basis demands of the question follow the following flowchart.

 

Rule of role of family

The family and society both are very important socialization agent to inculcating the moral values of child. They can develop only by the close contact, which determine the personality of child. Family become the foundation ground and gives a fertile land to cultivating the moral principal in there child’s.

We can understand the rule of family society and educational institution in following way.  

Sources

  • Notes provided by Youth Destination.
  • Youth Destination website

Previous year question paper / इस बिंदु से पूछे गए गत वर्ष के प्रश्न पत्र


QUE: – What does this quotations mean to you in the present context:  “Falsehood takes the place of truth when it results in unblemished common good.”- Tirukkural. “असत्य भी सत्य का स्थान ले लेता है यदि उसका परिणाम निष्कलंक सार्वजनिक कल्याण हो.”- तिरुक्कुरल (2018)

 

QUE: – With regard to the morality of actions, one view is that means is of paramount importance and the other view is that the ends justify the means. Which view do you think is more appropriate? Justify your answer.    कार्यवाहियों की नैतिकता के सम्बन्ध में एक दृष्टिकोण तो यह है, कि साधन सर्वोपरि महत्त्व के होते हैं और दूसरा दृष्टिकोण यह है कि परिणाम साधनों को उचित सिद्ध करते हैं. आपके विचार में इनमें से कौन-सा दृष्टिकोण अपेक्षाकृत अधिक उपयुक्त है? अपने उत्तर के पक्ष में तर्क पेश कीजिए. (2018)

 

QUE: – The crisis of ethical values in modern times is traced to a narrow perception of the good life. Discuss.  वर्तमान समय में नैतिक मूल्यों का संकट, सद्-जीवन की संकीर्ण धारणा से जुड़ा हुआ है। विवेचना कीजिए।    (2017)

 

QUE: – Without commonly shared and widely entrenched moral values and obligations, neither the law, nor democratic government, nor even the market economy will function properly. What do you understand by this statement? Explain with illustration in the contemporary times. सामान्यत: साझा किए गए तथा व्यापक रूप से मोर्चाबंद नैतिक मूल्यों और दायित्वों के बिना न तो कानून, न तो लोकतंत्रीय सरकार, न ही बाजार अर्थव्यवस्था ठीक से कार्य कर पाएँगे। इस कथन से आप क्या समझते हैं? समकालीन समय के उदाहरण द्वारा समझाइए। (2017)

 

QUE: – Explain how ethics contributes to social and human well-being.  स्पष्ट कीजिए कि आचारनीति समाज और मानव का किस प्रकार भला करती है।  (2016)

 

QUE: – Law and ethics are considered to be the two tools for controlling human conduct so as to make it conducive to civilized social existence. विधि एवं आचारनीति मानव आचरण को नियत्रिंत करने वाले दो उपकरण माने जाते हैं ताकि आचरण को सभ्य सामाजिक अस्तित्व के लिए सहायक बनाया जा सके।

(a) Discuss how they achieve this objective. चर्चा कीजिए कि वे इस उद्देश्य की किस प्रकार पूर्ति करते हैं।

(b) Giving examples, show how the two differ in their approaches. उदाहरण देते हुए यह बताइए कि ये दोनों अपने उपागमों में किस प्रकार एक-दूसरे से भिन्न हैं।  (2016)

 

QUE: – What is meant by ‘environmental ethics’? Why is it important to study? Discuss any one environmental issue from the viewpoint of environmental ethics. ‘पर्यावरणीय नैतिकता’ का क्या अर्थ है ? इसका अध्ययन करना किस कारण महत्वपूर्ण है ? पर्यावरणीय नैतिकता की दृष्टि से किसी एक पर्यावरणीय मुद्दे पर चर्चा कीजिए।  (2015)

 

QUE: – Differentiate between the following; निम्नलिखित के बीच विभेदन कीजिए

  1. Law and Ethics; विधि और नैतिकता
  2. Ethical management and Management of ethics; नैतिक प्रबंधान और नैतिकता का प्रबंधान
  3. Discrimination and Preferential treatment; भेदभाव और अधिमानी बरताव
  4. Personal ethics and Professional ethics. वैयक्तिक नैतिकता और संव्यावसायिक नैतिकता   (2015)

 

QUE: – Human beings should always be treated as ‘ends’ in themselves and never as merely ‘means’. Explain the meaning and significance of this statement, giving its implications in the modern techno-economic society. “मनुष्यों के साथ सदैव उनको, अपने-आप में ‘लक्ष्य‘ मानकर व्यवहार करना चाहिए, कभी भी उनको केवल ‘साधान‘ नहीं मानना चाहिए।” आधुनिक तकनीकी-आर्थिक समाज में इस कथन के निहितार्थों का उल्लेख करते हुए इसका अर्थ और महत्त्व स्पष्ट कीजिए। (2014)

 

QUE: – What do you understand by ‘values’ and ‘ethics’? In what way is it important to be ethical along with being professionally competent?  मूल्यों’ व ‘नैतिकताओं’ से आप क्या समझते हैं? व्यावसायिक सक्षमता के साथ नैतिक भी होना किस प्रकार महत्त्वपूर्ण है? (2013)

 

QUE: – Some people feel that values keep changing with time and situation, while others strongly believe that there are certain universal and eternal human values. Give your perception in this regard with due justification. कुछ लोगों का मानना है कि मूल्य, समय और परिस्थिति के साथ बदलते रहते हैं जबकि अन्य दृढ़ता से मानते हैं कि कुछ मानवीय मूल्य सर्वव्यापक व शाश्वत हैं। इस संबंध में आप अपनी धारणा तर्क देकर बताइए। (2013)

Role of family, society and educational institutions in inculcating values.

QUE: – Our attitudes towards life, work, other people and society are generally shaped unconsciously by the family and social surroundings in which we grow up. Some of these unconsciously acquired attitudes and values are often undesirable in the citizens of modern democratic and egalitarian society. 

(a) Discuss such undesirable values prevalent in today’s educated Indians.

(b) How can such undesirable attitudes be changed and socio-ethical values be cultivated in the aspiring and serving civil servants?

जीवन, कार्य, अन्य व्यक्तियों एवं समाज के प्रति हमारी अभिवृत्तियाँ आमतौर पर अनजाने में परिवार एवं उस सामाजिक परिवेश के द्वारा रुपित हो जाती हैं, जिसमें हम बड़े होते हैं। अनजाने में प्राप्त इनमें से कुछ अभिवृत्त्यिा। एवं मूल्य अक्सर आधुनिक लोकतांत्रिक एवं समतावादी समाज के नागरिकों के लिए अवांछनीय होते हैं।

  1. आज के शिक्षित भारतीयों में विद्यमान ऐसे अवांछनीय मूल्यों की विवेचना कीजिए।
  2. ऐसी आवंछनीय अभिवृत्तियाँ को कैसे बदला जा सकता है तथा लोक सेवाओं के लिए आवश्यक समझे जाने वाले सामाजिक-नैतिक मूल्यों को आकांक्षी तथा कार्यरत लोक सेवकों में किस प्रकार संवर्धिात किया जा सकता है? (2016)

 

QUE: – Social values are more important than economic values. Discuss the above statement with examples in the context of inclusive growth of a nation. “सामाजिक मूल्य, आर्थिक मूल्यों की अपेक्षा अधिक महत्त्वपूर्ण हैं।” राष्ट्र की समावेशी संवृद्धि के संदर्भ में उपरोक्त कथन पर उदाहरणों के साथ चर्चा कीजिए। (2015)

 

QUE: – The current society is plagued with widespread trust-deficit. What are the consequences of this situation for personal well-being and for societal well-being? What can you do at the personal level to make yourself trustworthy? वर्तमान समाज व्यापक विश्वास-न्यूनता से ग्रसित है। इस स्थिति के व्यक्तिगत कल्याण और सामाजिक कल्याण के सन्दर्भ में क्या परिणाम हैं ? आप अपने को विश्वसनीय बनाने के लिए व्यक्तिगत स्तर पर क्या कर सकते हैं? (2014)

 

QUE: – What factors affect the formation of a person’s attitude towards social problems? In our society, contrasting attitudes are prevalent about many social problems. What contrasting attitudes do you notice about the caste system in our society? How do you explain the existence of these contrasting attitudes?   सामाजिक समस्याओं के प्रति व्यक्ति की अभिवृत्ति (ऐटिट्यूड) के निर्माण में कौन-से कारक प्रभाव डालते हैं ? हमारे समाज में अनेक सामाजिक समस्याओं के प्रति विषम अभिवृत्तियाँ व्याप्त हैं। हमारे समाज में जाति प्रथा के बारे में क्या-क्या विषम अभिवृत्तियाँ आपको दिखाई देती हैं? इन विषम अभिवृत्तियों के अस्तित्व को आप किस प्रकार स्पष्ट करते हैं ? (2014)

 

QUE: – We are witnessing increasing instances of sexual violence against women in the country. Despite existing legal provisions against it, the number of such incidences is on the rise. Suggest some innovative measures to tackle this menace. हमें देश में महिलाओं के प्रति यौन-उत्पीड़न के बढ़ते हुए दृष्टांत दिखाई दे रहे हैं। इस कुकृत्य के विरुद्ध विद्यमान विधिक उपबन्धों के होते हुए भी, ऐसी घटनाओं की संख्या बढ़ रही है। इस संकट से निपटने के लिए कुछ नवाचारी उपाय सुझाइए। (2014)

 

Case-Study: Promoting Girl education while ensuring their safety (2015)

QUE: –You are recently posted as district development officer of a district. Shortly thereafter you found that there is considerable tension in the rural areas of your district on the issue of sending girls to schools.

The elders of the village feel that many problems have come up because girls are being educated and they are stepping out of the safe environment of the household. They are of the view that the girls should be quickly married off with minimum education. The girls are also competing for jobs after education, which have traditionally remained in boys’ exclusive domain, adding to unemployment amongst male population.

The younger generation feels that in the present era, girls should have equal opportunities for education and employment, and other means of livelihood. The entire locality is divided between the elders and the younger lot and further sub-divided between sexes in both generations. You come to know that in Panchayat or in other local bodies or even in busy crossroads, the issue is being acrimoniously debated.

One day you are informed that an unpleasant incident has taken place. Some girls were molested, when they were en route to schools. The incident led to clashes between several groups and a law and order problem has arisen. The elders after heated discussion have taken a joint decision not to allow girls to go to school and to socially boycott all such families, which do not follow their dictate.

                    1. What steps would you take to ensure girls’ safety without disrupting their education?

                   2. How would you manage and mould matriarchic attitude of the village elders to ensure harmony in the inter-generational relations? 

हाल में आपको एक जिले के जिला विकास अधिाकारी के तौर पर नियुक्त किया गया है। उसके बाद जल्दी ही आपने पाया कि आपके जिले के ग्रामीण इलाकों में लड़कियों को स्कूल भेजने के मुद्दे पर काफ़ी तनाव है। गाँव के बड़े महसूस करते हैं कि अनेक समस्याएँ पैदा हो गई हैं क्योंकि लड़कियों को पढ़ाया जा रहा है और वे घर के सुरक्षित वातावरण के बाहर कदम रख रही हैं। उनका विचार यह है कि लड़कियों की न्यूनतम शिक्षा के साथ जल्दी से शादी कर दी जानी चाहिए। शिक्षा के बाद लड़कियाँ नौकरी के लिए भी स्पर्धा कर रही हैं, जो परंपरा से लड़कों का अनन्य क्षेत्र रहा है, और पुरुषों में बेरोज़गारी में वृद्धि कर रही हैं।

            युवा पीढ़ी महसूस करती है कि वर्तमान युग में, लडकियों को शिक्षा और रोज़गार तथा जीवन-निर्वाह के अन्य साधानों के समान अवसर प्राप्त होने चाहिए। समस्त इलाका वयोवृद्धों और युवाओं के बीच तथा उससे आगे दोनों पीढ़ियों से स्त्री-पुरुषों के बीच विभाजित है। आपको पता चलता है कि पंचायत या अन्य स्थानीय निकायों में या व्यस्त चौराहों पर भी, इस मुद्दे पर गरमागरम वाद-विवाद हो रहा है।

            एक दिन आपको सूचना मिलती है कि एक अप्रिय घटना हुई है। कुछ लड़कियों के साथ छेड़खानी की गई जब वे स्कूलों के रास्ते में थी। इस घटना के फ़लस्वरूप कई सामाजिक समूहों के बीच झगड़े हुए और कानून तथा व्यवस्था की समस्या पैदा हो गई। गरमागरम वाद-विवाद के बाद बड़े-बूढ़ों ने लड़कियों को स्कूल जाने की अनुमति न देने और जो परिवार उनके हुक्म का पालन नहीं करते हैं, ऐसे सभी परिवारों का सामाजिक बहिष्कार करने का संयुक्त निर्णय ले लिया।

  1. लड़कियों की शिक्षा में व्यवधान डाले बिना, लड़कियों की सुरक्षा को सुरक्षित करने के लिए आप क्या कदम उठाएँगे?

2. पीढ़ियों के बीच संबंधों में समरसता सुनिश्चित करने के लिए आप गाँव के वयोवृद्धों की पितृतंत्रात्मक अभिवृत्ति का किस प्रकार प्रबंधान का और ढालने का कार्य करेंगे ?(250 words) (25 Marks)

 

Case-Study: Wife-beater Boss: To do something or not? (2016)

QUE: –You are a young, aspiring and sincere employee in a Government office working as an assistant, to the director of your deportment. Since you’ve joined recently, you need to learn and progress. Luckily your superior is very kind and ready to train you for your job. He is a very intelligent and well-informed person having knowledge of various departments. In short, you respect your book and are looking forward to learn a lot from him.

            Since you’ve good tuning with the boss, he started depending on you. One day due to ill health he invited you at his place for finishing some urgent work. You reached his house and you heard shouting noises before you could ring the bell. You waited for a while. After entering, boss greeted you and explained the work. But you were constantly disturbed by the crying of a woman. At last, you inquired with the boss but his answer did not satisfy you. Next day, you were compelled to inquire further in the office and found out that his behavior is very had at home with his wife. He also heath up his wife.

        His wife is not well educated and is a simple woman in comparison to her husband. You see that though your boss is a nice person in the office, he is engaged in domestic violence at home. In such a situation, you are left with the following options. Analyse each option with its consequences.

  1. Just ignore thinking about it because it is their personal matter.
  2. Report the case to the appropriate authority.
  3. Your own innovative approach towards the situation. (250 words)

आप एक सरकारी कार्यालय में अपने विभाग के निदेशक के सहायक के रुप में कार्यरत एक युवा, उच्चाकांक्षी एवं निष्कपट कर्मचारी हैं। जैसा कि आपने अभी पद ग्रहण किया है, आपको सीखने एवं प्रगति की आवश्यकता है। भाग्यवश आपका उच्चस्थ बहुत दयालु एवं आपको अपने कार्य के लिए प्रशिक्षित करने के लिए तैयार है। वह बहुत बुद्विमान एवं पूर्ण जानकार व्यक्ति है, जिसे विभिन्न विभागों का ज्ञान है। संक्षेप में, आप अपने बॉस का सम्मान करते हैं तथा उससे बहुत कुछ सीखने के उत्सुक हैं।

             जैसा कि आपके साथ बॉस के सम्बंधा अच्छे हैं, वह आप पर निर्भर करने लगा है। एक दिन खराब स्वास्थ्य के कारण उसने आपको कुछ आवश्यक कार्य पूरा करने के लिए घर पर बुलाया। आप उसके घर पहुँचे एवं घंटी बजाने से पूर्व आपने ज़ोर-ज़ोर से चिल्लाने का शोर सुना। आपने कुछ समय प्रतीक्षा की। घर में प्रवेश करने पर बॉस ने आपका अभिनन्दन किया तथा कार्य के बारे में बतलाया। परन्तु आप एक औरत के रोने की आवाज से निरन्तर व्याकुल रहे। अन्त में आपने अपने बॉस से पूछा परन्तु उसने सन्तोषप्रद जवाब नहीं दिया।

         अगले दिन आप कार्यालय में इसके बारे में आगे जानकारी करने को उद्वेलित हुए एवं मालूम हुआ कि उसका घर में अपनी पत्नी के साथ व्यवहार बहुत खराब है। वह अपनी पत्नी की मारपीट भी करता है। उसकी पत्नी ठीक से शिक्षित नहीं है तथा अपने पति की तुलना में एक सरल महिला है। आप देखते हैं कि आपका बॉस कार्यालय में अच्छा व्यक्ति है, परन्तु घर पर वह घरेलू हिंसा में संलिप्त है। इस स्थिति में, आपके सामने निम्नलिखित विकल्प बचे हैं। प्रत्येक विकल्प का परिणामों के साथ विश्लेषण कीजिए।

  1. इसके बारे में सोचना छोड़ दीजिए क्योंकि यह उनका व्यक्तिगत मामला है।
  2. उपयुक्त प्राधिकारी को मामले को प्रेषित कीजिए।
  3. स्थिति के बारे में आपका स्वयं का नव प्रवर्तनकारी दृष्टिकोण।

 


सामान्य अध्ययन IV –टॉपिक 2

अभिवृत्तिः सारांश (कंटेन्ट), संरचना, वृत्ति; विचार तथा आचरण के परिप्रेक्ष्य में इसका प्रभाव एवं संबंध; नैतिक और राजनीतिक अभिरुचि; सामाजिक प्रभाव और धारण।

Attitude: content, structure, function; its influence and relation with thought and behaviour; moral and political attitudes; social influence and persuasion.


The topic primarily deals with Attitude. Where we will study Content (Political, Moral, Social) of attitude, Structure (Effective, Cognitive) of attitude and functions of attitudes.

So, to understand the topic we will study the following things.

  • Attitude
  • Attitude and social influence
  • Consequence of ethics in human action
  • Moral and political attitude

If we see the overall division of topics then be will see the following things –

 

Second aspect is Attitude’s social influence?

 

Moral and political attitudes

                                                     

Sources

  • Youth Destination class Notes.
  • NCERT, Psychology (12th) – Selected chapters
  • Internet.

Previous year question paper / इस बिंदु से पूछे गए गत वर्ष के प्रश्न पत्र


QUE: – Young people with ethical conduct are not willing to come forward to join active politics. Suggest steps to motivate them to come forward.  नैतिक आचरण वाले तरुण लोग सक्रिय राजनीति में शामिल होने के लिए उत्सुक नहीं होते हैं। उनको सक्रिय राजनीति में अभिप्रेरित करने के लिए उपाय सुझाइए। (2017)

 

QUE: – In the context of defense services, ‘patriotism’ demands readiness to even lay down one’s life in protecting the nation. According to you, what does patriotism imply in everyday civil life? Explain with illustrations and justify your answer. रक्षा सेवाओं के सन्दर्भ में, ‘देशभक्ति’ राष्ट्र की रक्षा करने में अपना जीवन उत्सर्ग करने तक की तत्परता की अपेक्षा करती है। आपके अनुसार, दैनिक असैनिक जीवन में देशभक्ति का क्या तात्पर्य है ? उदाहरण प्रस्तुत करते हुए इसको स्पष्ट कीजिए और अपने उत्तर के पक्ष में तर्क दीजिए। (2014)

 

QUE: – It is often said that ‘politics’ and ‘ethics’ do not go together. What is your opinion in this regard? Justify your answer with illustrations. प्रायः यह कहा जाता है कि ‘राजनीति’ और ‘नैतिकता’ साथ-साथ नहीं चल सकते। इस संबंध में आपका क्या मत है? अपने उत्तर का, उदाहरणों सहित, आधार बताइए। (2013)

 


सामान्य अध्ययन IV –टॉपिक 3

सिविल सेवा के लिये अभिरुचि तथा बुनियादी मूल्य- सत्यनिष्ठा, भेदभाव रहित तथा गैर-तरफदारी, निष्पक्षता, सार्वजनिक सेवा के प्रति समर्पण भाव, कमज़ोर वर्गों के प्रति सहानुभूति, सहिष्णुता तथा संवेदना।

Aptitude and foundational values for Civil Service – integrity, impartiality and non-partisanship, objectivity, dedication to public service, empathy, tolerance and compassion towards the weaker sections.


This is related to the Civil services and the foundational values attached to it. It covers the area of competency frame work for administration like ethos, equality and efficiency.

Second aspect of the topic is related to the fundamental values for civil servants – here we will analysis integrity, impartiality and non-partisanship, objectivity, dedication to public service, empathy, tolerance and compassion towards the weaker sections.

So, here we will learn following things –

  • What is aptitude?
  • Aptitude and values for a civil servant?

What is aptitude?

An aptitude is about the ability to do a certain kind of work at a certain level. Outstanding aptitude can be considered as a “talent”. An aptitude may be physical or mental.

Aptitude and values for a civil servant?

 

Some other aspect we will study in this topic –

  • Values of civil services in India

  • Value and universal values

 

  • Qualities of good administrators

                                        

Sources

  • Notes provided by Youth Destination
  • Internet
  • The Hindu.

Previous year question paper / इस बिंदु से पूछे गए गत वर्ष के प्रश्न पत्र


 QUE: – “In looking for people to hire, you look for three qualities: integrity, intelligence and energy. And if they do not have the first, the other two will kill you.” – Warren Buffett. What do you understand by this statement in the present-day scenario? Explain. “नियुत्ति के लिए व्यक्तियों की खोज करते समय आप तीन गुणों को खोजते हैं : सत्यनिष्ठता, बुद्धिमत्ता और ऊर्जा. यदि उनमें पहला गुण नहीं है, तो अन्य दो गुण आपको समाप्त कर देंगे.” – वॉरेन बफेट। वर्तमान परिदृश्य में इस कथन सेआप क्या समझते हैं? स्पष्ट कीजिए। (2018)

 

QUE: – What is mean by public interest? What are the principles and procedures to be followed by the civil servants in public interest? जनहित से क्या अभिप्राय है? सिविल कर्मचारियों द्वारा लोकहित में कौन-कौन से सिद्धांतों और कार्यविधियों का अनुसरण करना चाहिए? (2018)

 

QUE: – State the three basic values, universal in nature, in the context of civil services and bring out their importance. सिविल सेवाओं के संदर्भ में सार्विक प्रकृति के, तीन आधारभूत मूल्यों का कथन कीजिए और उनके महत्त्व को उजागर कीजिए। (2018)

 

QUE: – Examine the relevance of the following in the context of civil service: सिविल सेवा के संदर्भ में निम्नलिखित की प्रासंगिकता का परिक्षण कीजिए:

(a) Transparency (पारदर्शिता)

(b) Accountability (जवाबदेही)

(c) Fairness and justice (निष्पक्षता तथा न्याय)

(d) Courage of conviction (दृढ़ विश्वास का साहस)

(e) Spirit of service ( सेवा भाव) (2018)

 

QUE: – One of the tests of integrity is complete refusal to be compromised. Explain with reference to a real life example. समझौते से पूर्ण रूप से इनकार करना सत्यनिष्ठा की एक परख है। इस संदर्भ में वास्तविक जीवन से उदाहरण देते हुए व्याख्या कीजिए। (2017)

 

QUE: – Conflict of interest in the public sector arises when are taking priority one above the other. How can this conflict in administration be resolved? Describe with an example. सार्वजनिक क्षेत्र में हित-संघर्ष तब उत्पन्न होता है, जब निम्नलिखित की एक-दूसरे के ऊपर प्राथमिकता रखते हैं:प्रशासन में इस संघर्ष को कैसे सुलझाया जा सकता है? उदाहरण सहित वर्णन कीजिए। (2017)

(a) official duties (पदीय कर्तव्य)

(b) public interest (सार्वजनिक हित)

(c) personal interest (व्यक्तिगत हित)

 

QUE: – Why should impartiality and non-partisanship be considered as foundational values in public services, especially in the present day socio-political context? Illustrate your answer with examples. क्या कारण है कि निष्पक्षता और अपक्षपातीयता को लोक सेवाओं में, विशेषकर वर्तमान सामाजिक-राजनीतिक संदर्भ में, आधारभूत मूल्य समझना चाहिए? अपने उत्तर को उदाहरणों के साथ सुस्पष्ट कीजिए। (2016)

 

QUE: – Public servants are likely to confront with the issues of ‘Conflict of Interest’. What do you understand by the term ‘Conflict of Interest’ and how does it manifest in the decision making by public servants? If faced with the conflict of interest situation, how would you resolve it? Explain with the help of examples. लोक सेवकों के समक्ष ‘हित संघर्ष (कन्फ्लिक्ट ऑफ़ इन्टरेस्ट) के मुद्दों का आ जाना संभव होता है। आप ‘हित संघर्ष‘ पद से क्या समझते हैं और यह लोक सेवकों के द्वारा निर्णयन में किस प्रकार अभिव्यक्त होता है ? यदि आपके सामने हित संघर्ष की स्थिति पैदा हो जाय, तो आप उसका हल किस प्रकार निकालेंगे ? उदाहरणों के साथ स्पष्ट कीजिए। (2015)

 

QUE: – How do the virtues of trustworthiness and fortitude get manifested in public service? Explain with examples. विश्वसनीयता और सहन-शक्ति के सद्गुण लोक सेवा में किस प्रकार प्रदर्शित होते हैं? उदाहरणों के साथ स्पष्ट कीजिए। (2015)

 

QUE: – A mere compliance with law is not enough, the public servant also has to have a well-developed sensibility to ethical issues for effective discharge of duties.” Do you agree? Explain with the help of two examples, where (i) an act is ethically right, but not legally and (ii) an act is legally right, but not ethically. “केवल कानून का अनुपालन ही काफ़ी नहीं है। लोक सेवक में, अपने कर्तव्यों के प्रभावी पालन करने के लिए, नैतिक मुद्दों पर एक सुविकसित संवेदन-शक्ति का होना भी आवश्यक है।” क्या आप सहमत हैं? दो उदाहरणों की सहायता से स्पष्ट कीजिए, जहाँ (i) कृत्य नैतिकतः सही है, परंतु वैधा रूप से सही नहीं है तथा (ii) कृत्य वैधा रूप से सही है, परंतु नैतिकतः सही नहीं है।(2015)

 

QUE: – Two different kinds of attitudes exhibited by public servants towards their work have been identified as the bureaucratic attitude and the democratic attitude.

  1. Distinguish between these two terms and write their merits and demerits.
  2. Is it possible to balance the two to create a better administration for the faster development of our country?

लोक सेवकों की अपने कार्य के प्रति प्रदर्शित दो अलग-अलग प्रकारों की अभिवृत्तियों की पहचान अधिकारीतंत्रीय अभिवृत्ति और लोकतांत्रिक अभिवृत्ति के रूप में की गई है।

  1. इन दो पदोंके बीच विभेदन कीजिए और उनके गुणों-अवगुणों को बताइए।
  2. अपने देश का तेजी से विकास की दृष्टि से बेहतर प्रशासन के निर्माण के लिए क्या दोनों में संतुलन स्थापित करना संभव है ? (2015)

 

QUE: – What does ‘accountability’ mean in the context of public service? What measures can be adopted to ensure individual and collective accountability of public servants? लोक-सेवा के सन्दर्भ में ‘जवाबदेही‘ का क्या अर्थ है ? लोक-सेवकों की व्यक्तिगत और सामूहिक जवाबदेही को सुनिश्चित करने के लिए क्या उपाय अपनाए जा सकते हैं ? (2014)

 

QUE: – Integrity without knowledge is weak and useless, but knowledge without integrity is dangerous and dreadful. What do you understand by this statement? Explain your stand with illustrations from the modern context. “ज्ञान के बिना ईमानदारी कमज़ोर और व्यर्थ है, परन्तु ईमानदारी के बिना ज्ञान खतरनाक और भयानक होता है।”  इस कथन से आप क्या समझते हैं? आधुनिक सन्दर्भ से उदाहरण लेते हुए अपने अभिमत को स्पष्ट कीजिए। (2014)

 

QUE: – There is a heavy ethical responsibility on the public servants because they occupy positions of power, handle huge amounts of public funds, and their decisions have wide-ranging impact on society and environment. What steps have you taken to improve your ethical competence to handle such responsibility? लोक-सेवकों पर भारी नैतिक उत्तरदायित्व होता है, क्योंकि वे सत्ता के पदों पर आसीन होते हैं, लोक-निधिायों की विशाल राशियों पर कार्रवाई करते हैं, और उनके निर्णयों का समाज और पर्यावरण पर व्यापक प्रभाव पड़ता है। ऐसे उत्तरदायित्व को निभाने के लिए, अपनी नैतिक सक्षमता पुष्ट करने हेतु आपने क्या कदम उठाए है ? (2014)

 

QUE: – What do you understand by the following terms in the context of public service?लोक सेवा के संदर्भ में निम्न शब्दों से आप क्या समझते हैं?

            a) Integrity (सत्यनिष्ठा)

           b) Perseverance (अध्यवसाय)

          c) Spirit of service (सेवा-भाव)

         d) Commitment (प्रतिबद्धता)

        e) Courage of conviction (साहसपूर्ण दृढ़ता)

       f) Personal opinion (व्यक्तिगत राय) (2013)

 

QUE: – Indicate two more attributes which you consider important for public service. Justify your answer. दो ऐसे अन्य गुण बताइए जिन्हें आप लोक सेवा के लिये महत्त्वपूर्ण समझते हैं। अपने उत्तर का औचित्य समझाइए। (2013)

 

 


सामान्य अध्ययन IV –टॉपिक 4

भावनात्मक समझः अवधारणाएँ तथा प्रशासन और शासन व्यवस्था में उनके उपयोग और प्रयोग।

Emotional intelligence-concepts, and their utilities and application in administration and governance.


Emotional intelligence (EI), emotional leadership (EL), emotional quotient (EQ) and emotional intelligence quotient (EIQ), is the capability of individuals to recognize their own emotions and those of others, discern between different feelings and label them appropriately, use emotional information to guide thinking and behaviour, and manage and/or adjust emotions to adapt to environments or achieve one’s goal(s).

This topic of GS-4 is related to the emotional Intelligence which includes –

  • Definition and Significance of emotional Intelligence.
  • Component of emotional Intelligence

  • Measurement of emotional Intelligence
  • Symptoms of being emotional intelligent
  • Attributes of an emotionally intelligent administration
  • Relevance of emotional intelligence in the current environment of civil services and how can its help in civil services?

Sources

  • Youth Destination class Notes
  • Internet.
  • The Hindu.

Previous year question paper / इस बिंदु से पूछे गए गत वर्ष के प्रश्न पत्र


 QUE: – What does this quotation mean to you in the present context: “Anger and intolerance are the enemies of correct understanding.” –Mahatma Gandhi.  “क्रोध और असहिष्णुता सही समझ के शत्रु हैं” – महात्मा गाँधी     (2018)

 

QUE: – “In doing a good thing, everything is permitted which is not prohibited expressly or by clear implication”. Examine the statement with suitable examples in the context of a public servant discharging his/her duties. “अच्छा कार्य करने में, वह सब कुछ अनुमत होता है जिसको अभिव्यक्ति के द्वारा या स्पष्ट निहितार्थ के द्वारा निषिद्ध न किया गया हो.” एक लोक सेवक द्वारा अपने कर्तव्यों के निर्वहन के सम्बन्ध में, इस कथन का उपयुक्त उदाहरणों सहित परीक्षण कीजिए.  (2018)

 

QUE: – How will you apply emotional intelligence in administrative practices? प्रशासनिक पद्धतियों में भावनात्मक बुद्धि का आप किस तरह प्रयोग करेंगे?  (2017)

 

QUE: – Anger is a harmful negative emotion. It is injurious to both personal life and work life.

        (a) Discuss how it leads to negative emotions and undesirable behaviours.

       (b) How can it be managed and controlled?      

क्रोध एक हानिकारक नकारात्मक संवेग है। यह व्यक्तिगत जीवन एवं कार्य जीवन दोनों के लिए हानिकर है।

       (a)चर्चा कीजिए कि यह किस प्रकार नकारात्मक संवेगों और अवांछनीय व्यवहारों को पैदा कर देता है।

      (b)इसे कैसे व्यवस्थित एवं नियंत्रित किया जा सकता है? (2016)

 

QUE: – All human beings aspire for happiness. Do you agree? What does happiness mean to you? Explain with examples.  सभी मानव सुख की आकांक्षा करते हैं। क्या आप सहमत है ? आपके लिए सुख का क्या अर्थ है ? उदाहरण प्रस्तुत करते हुए स्पष्ट कीजिए। (2014)

 

QUE: – What is ’emotional intelligence’ and how can it be developed in people? How does it help an individual in taking ethical decisions?  ‘भावात्मक प्रज्ञता’ क्या होता है और यह लोगों में किस प्रकार विकसित किया जा सकता है? किसी व्यक्ति विशेष को नैतिक निर्णय लेने में यह कैसे सहायक होता है?  (2013)

 

 QUE: – What do you understand by the term ‘voice of conscience’? How do you prepare yourself to heed to the voice of conscience? ‘अंतःकरण की आवाज़’ से आप क्या समझते हैं? आप स्वयं को अंतःकरण की आवाज़ पर ध्यान देने के लिये कैसे तैयार करते हैं?  (2013)

 

QUE: – What is meant by ‘crisis of conscience’? Narrate one incident in your life when you were faced with such a crisis and how you resolved the same. ‘विवेक का संकट’ से क्या अभिप्राय है? अपने जीवन की एक घटना बताइए जब आपका ऐसे संकट से सामना हुआ और आपने उसका समाधान कैसे किया। (2013)

 


सामान्य अध्ययन IV –टॉपिक 5

भारत तथा विश्व के नैतिक विचारकों तथा दार्शनिकों के योगदान।

Contributions of moral thinkers and philosophers from India and world.


This topic is related to the Moral Thinkers and Philosophers and their contribution in India and across the world.

Here we will study the significance of ideas of Moral Thinkers and Philosophers, its socio-economic impact, its impact on international affairs and administrative management in public as well as private life.

Focus must be on –

  • Indian Philosophers and Moral Thinkers

          Mahatma Gandhi, Kautilya, Buddha, Mahavira, Ashoka, Swami Vivekananda, Raja Ram Mohan Roy, etc.

  • World Philosophers and Moral Thinkers

         Aristotle, Plato, John Rawls, Abraham Lincoln, Napoleon Bonaparte, Max Weber, Nelson Mandela, etc.

Sources

  • Ethics, Integrity and Aptitude by G Subba Rao and PN Roy Chowdhury.
  • Internet
  • The Hindu.

Previous year question paper / इस बिंदु से पूछे गए गत वर्ष के प्रश्न पत्र


 QUE: – “Great ambition is the passion of a great character. Those endowed with it may perform very good or very bad acts. All depends on the principles which direct them.” – Napoleon Bonaparte. Stating examples mention the rulers (i) who have harmed society and country, (ii) who worked for the development of society and country.“बड़ी महत्वाकांक्षा महान चरित्र का भावावेश (जुनून) है। जो इससे संपन्न है वे या तो बहुत अच्छे अथवा बहुत बुरे कार्य कर सकते हैं। ये सब कुछ उन सिद्धन्तों पर आधारित है जिनसे वे निर्देशित होते हैं।” – नेपोलियन बोनापार्ट। उदाहरण देते हुए उन शासकों का उल्लेख कीजिए जिन्होंने

  • समाज व देश का अहित किया है,
  • समाज व देश के विकास के लिए कार्य किया है। (2017)

 

QUE: – Discuss Mahatma Gandhi’s concept of seven sins. महात्मा गाँधी की सात पापों की संकल्पना की विवेचना कीजिए।   (2016)

 

QUE: – Analyse John Rawls’s concept of social justice in the Indian context. भारत के संदर्भ में सामाजिक न्याय की जॉन रॉल्स की संकल्पना का विश्लेषण कीजिए। (2016)

 

QUE: – Corruption causes misuse of government treasury, Administrative inefficiency and obstruction in the path of national Development. Discuss Kautilya’s views. ‘‘भ्रष्टाचार सरकारी राजकोष का दुरुपयोग, प्रशासनिक अदक्षता एवं राष्ट्रीय विकास के मार्ग में बाधा उत्पन्न करता है।’’ कौटिल्य के विचारों की विवेचना कीजिए। (2016)

 

QUE: – Max Weber said that it is not wise to apply to public administration the sort of moral and ethical norms we apply to matters of personal conscience. It is important to realise that the State bureaucracy might possess its own independent bureaucratic morality. Critically analyse this statement. ‘‘मैक्स वैबर ने कहा था कि जिस प्रकार के नैतिक प्रतिमानों को हम व्यक्तिगत अंतरात्मा के मामलों पर लागू करते हैं, उस प्रकार के नैतिक प्रतिमानों को लोक प्रशासन पर लागू करना समझदारी नहीं है। इस बात को समझ लेना महत्वपूर्ण है कि हो सकता है कि राज्य के अधिाकारीतंत्र के पास अपनी स्वयं की स्वतंत्र अधिाकारीतंत्रीय नैतिकता हो।’’ इस कथन का समालोचनापूर्वक विश्लेषण कीजिए।   (2016)

 

QUE: – “The weak can never forgive; forgiveness is the attribute of the strong.” “कमजोर कभी माफ़ नहीं कर सकते, क्षमाशीलता तो ताकतवर का ही सहज गुण है।”  (2015)

 

QUE: – We can easily forgive a child who is afraid of the dark; the real tragedy of life is when men are afraid of the light. “हम बच्चे को आसानी से माफ़ कर सकते हैं, जो अंधेरे से डरता है, जीवन की वास्तविक विडंबना तो तब है, जब मनुष्य प्रकाश से डरने लगते हैं।” (2015)

 

QUE: – Which eminent personality has inspired you the most in the context of ethical conduct in life? Give the gist of his/her teachings giving specific examples, describe how you have been able to apply these teachings for your own ethical development. जीवन में नैतिक आचरण के सन्दर्भ में आपको किस विख्यात व्यक्तित्व ने सर्वाधिाक प्रेरणा दी है ? उसकी शिक्षाओं का सार प्रस्तुत कीजिए। विशिष्ट उदाहरण देते हुए वर्णन कीजिए कि आप अपने नैतिक विकास के लिए उन शिक्षाओं को किस प्रकार लागू कर पाए हैं।  (2014)

 

QUE: – There is enough on this earth for every one’s need but for no one’s greed. —Mahatma Gandhi. “पृथ्वी पर हर एक की आवश्यकता-पूर्ति के लिये काफी है पर किसी के लालच के लिये कुछ नहीं”। —महात्मा गांधी। (2013)

 

QUE: – Nearly all men can withstand adversity, but if you want to test a man’s character, give him power.—Abraham Lincoln “लगभग सभी लोग विपत्ति का सामना कर सकते हैं पर यदि किसी के चरित्र का परीक्षण करना है, तो उसे शक्ति/अधिकार दे दो”। —अब्राहम लिंकन (2013)

 

QUE: – I count him braver who overcomes his desires than him who overcomes his enemies. —Aristotle   “शत्रुओं पर विजय पाने वाले की अपेक्षा मैं अपनी इच्छाओं का दमन करने वाले को अधिक साहसी मानता हूँ”। —अरस्तू   (2013)

 


सामान्य अध्ययन IV –टॉपिक 6

लोक प्रशासन में लोक/सिविल सेवा मूल्य तथा नीतिशास्त्रः स्थिति तथा समस्याएँ; सरकारी तथा निजी संस्थानों में नैतिक चिंताएँ तथा दुविधाएँ; नैतिक मार्गदर्शन के स्रोतों के रूप में विधि, नियम, विनियम तथा अंतरात्मा; उत्तरदायित्व तथा नैतिक शासन, शासन व्यवस्था में नीतिपरक तथा नैतिक मूल्यों का सुदृढ़ीकरण; अंतर्राष्ट्रीय संबंधों तथा निधि व्यवस्था (फंडिंग) में नैतिक मुद्दे; कॉरपोरेट शासन व्यवस्था।

Public/Civil service values and Ethics in Public administration: Status and problems; ethical concerns and dilemmas in government and private institutions; laws, rules, regulations and conscience as sources of ethical guidance; accountability and ethical governance; strengthening of ethical and moral values in governance; ethical issues in international relations and funding; corporate governance.


 This part is quite exhaustive and covers various dimensions on Ethics in Public Administration. It covers following sub-topics: –

  • Value of Public Administration
  • Its Definition, Efficacy, Legality and issues like Human Rights, Terrorism, Encounters.
  • Ethical Concerns and various ethical Dilemmas in Government and Private Institutions
  • Transparency, Justice, Equality, Rule of Law, Fairness in public administration.
  • How rules, regulations and conscience is source of ethical guidance
  • Accountability and Ethical Governance in India
  • Various Instruments of Accountability (Parliament, Media, RTI, Elections)
  • Code of ethics and conduct.
  • Citizen Charter, RTI, Participatory Governance
  • Ethical issues in International relations and Funding – issues like Competition between nations, existing inequality in the world order, Environmental degradation, Terrorism
  • Indirect influence on nations internal matters
  • Corporate Governance – Definition, Legal angle (Companies Act), Social angle, Corporate Social Responsibility, lacunae and loopholes vis a vis ethics

Previous year question paper / इस बिंदु से पूछे गए गत वर्ष के प्रश्न पत्र


QUE: – What do you understand by the terms ‘governance’, ‘good governance’ and ‘ethical governance’?   शासन’, ‘सुशासन’ और ‘नैतिक शासन’ शब्दों से आप क्या समझते हैं। (2016)

 

QUE: – What do you understand by ‘probity’ in public life? What are the difficulties in practicing it in the present times? How can these difficulties be overcome? लोक-जीवन में ‘सत्यनिष्ठा‘ से आप क्या अर्थ ग्रहण करते हैं? आधुनिक काल में इसके अनुसार चलने में क्या कठिनाइयाँ हैं ? इन कठिनाइयों पर किस प्रकार विजय प्राप्त कर सकते हैं ?     (2014)

 

QUE: – What does ethics seek to promote in human life? Why is it all the more important in public administration? मानव जीवन में नैतिकता किस बात की प्रोन्नति करने की चेष्टा करती है ? लोक-प्रशासन में यह और भी अधिक महत्वपूर्ण क्यों है ? (2014)

 

QUE: – The good of an individual is contained in the good of all. What do you understand by this statement? How can this principle be implemented in public life?  सर्वहित में ही हर व्यक्ति का हित निहित है। आप इस कथन से क्या समझते हैं? सार्वजनिक जीवन में इस सिद्धान्त का कैसे पालन किया जा सकता है? (2013)

 

QUE: – What does this quotations mean to you in the present context:  “The true rule, in determining to embrace, or reject anything, is not whether it has any evil in it; but whether it has more evil than good. There are few things wholly evil or wholly good. Almost everything, especially of governmental policy, is an inseparable compound of the two; so that our best judgement of the preponderance between them is continually demanded. ” —Abraham Lincoln. 

वर्तमान संदर्भ में निम्नलिखित में से प्रत्येक उद्धरण का आपके विचार से क्या अभिप्राय है?

“किसी भी बात को स्वीकार करने या अस्वीकार करने का निर्धारण करने में सही नियम यह नहीं है कि उसमें कोई बुराई है या नहीं; बल्कि यह है कि उसमें अच्छाई से अधिक बुराई है. ऐसे बहुत कम विषय होते हैं जो पूरी तरह बुरे या अच्छे होते हैं. लगभग सभी विषय, विशेषकर सरकारी नीति से सम्बंधित, अच्छाई और बुराई दोनों के अविच्छेदनीय योग होते हैं; ताकि इन दोनों के बीच प्रधानता के बारे में हमारे सर्वोत्तम निर्णय की आवश्यकता हमेशा बनी रहती है.” —अब्राहम लिंकन  (2018)

 

QUE: – Explain the process of resolving ethical dilemmas in Public Administration. लोक प्रशासन में नैतिक दुविधाओं का समाधान करने के प्रक्रम को स्पष्ट कीजिए. (2018)

 

QUE: – Suppose the Government of India is thinking of constructing a dam in a mountain valley bond by forests and inhabited by ethnic communities. What rational policy should it resort to in dealing with unforeseen contingencies.  मान लीजिए कि भारत सरकार एक ऐसी पर्वतीय घाटी में एक बाँध का निर्माण करने की सोच रही है, जो जंगलों से घिरी है और जहाँ नृजातीय समुदाय रहते हैं. अप्रत्याशित आकस्मिकताओं से निपटने के लिए सरकार को कौन-सी तर्कसंगत नीति का सहारा लेना चाहिए? (2018)

 

Case-Study: Enforcing liquor prohibition in backward area (2018)

QUE: – It is a State where prohibition is in force. You are recently appointed as the Superintendent of Police of a district notorious for illicit distillation of liquor. The illicit liquor leads to many death, reported and unreported, and causes a major problem for the district authorities. The approach till now had been to view it as a law and order problem and tackle it accordingly. Raids, arrest, police cases, and criminal trials – all these had only limited impact. The problem remains as serious as ever. Your inspections show that the parts of the district where the distillation flourishes are economically, industrially and educationally backward. Agriculture is badly affected by poor irrigation facilities. Frequent clashes among communities gave boost to illicit distillation. No major initiatives had taken place in the past either from the government’s side or from social organizations to improve the lot of the people. Which new approach will you adopt to bring the problem under control? 

 यह एक राज्य है जिसमें शराबबंदी लागू है। अभी-अभी आपको इस राज्य के एक ऐसे जिले में पुलिस अधीक्षक नियुक्त किया गया है जो अवैध शराब बनाने के लिए कुख्यात है. अवैध शराब से बहुत मौतें हो जाती हैं, कुछ रिपोर्ट की जाती हैं और कुछ नहीं, जिससे जिला अधिकारियों को बड़ी समस्या होती है। अभी तक इसे कानून और व्यवस्था की समस्या के दृष्टिकोण से देखा जाता रहा है और उसी तरह इसका सामना किया जाता रहा है. छापे, गिरफ्तारियाँ, पुलिस के मुक़दमे, आपराधिक मुक़दमे – इन सभी का केवल सीमित प्रभाव रहा है. समस्या हमेशा की तरह अभी भी गंभीर बनी हुई है। आपके निरीक्षणों से पता चलता है कि जिले के जिन क्षेत्रों में शराब बनाने का कार्य फल-फूल रहा है, वे आर्थिक, औद्योगिक तथा शैक्षणिक रूप से पिछड़े हैं. अपर्याप्त सिंचाई सुविधाओं का कृषि पर बुरा प्रभाव पड़ता है. विभिन्न समुदायों के बार-बार होने वाले टकराव अवैध शराब निर्माण को बढ़ावा देते हैं. अतीत में लोगों के हालात में सुधार लाने के लिए न तो सरकार के द्वारा और न ही सामाजिक संगठनों के द्वारा कोई महत्त्वपूर्ण पहलें की गई हैं। समस्या को नियंत्रित करने के लिए आप कौन-सा नया उपागम अपनाएँगे? (2018)

 


सामान्य अध्ययन IV –टॉपिक 7

शासन व्यवस्था में ईमानदारीः लोक सेवा की अवधारणा; शासन व्यवस्था और ईमानदारी का दार्शनिक आधार, सरकार में सूचना का आदान-प्रदान और पारदर्शिता, सूचना का अधिकार, नीतिपरक आचार संहिता, आचरण संहिता, नागरिक घोषणा पत्र, कार्य संस्कृति, सेवा प्रदान करने की गुणवत्ता, लोक निधि का उपयोग, भ्रष्टाचार की चुनौतियाँ।

Probity in Governance: Concept of public service; Philosophical basis of governance and probity; Information sharing and transparency in government, Right to Information, Codes of Ethics, Codes of Conduct, Citizen’s Charters, Work culture, Quality of service delivery, Utilization of public funds, challenges of corruption.


This topic is very wide and integrate various dimensions. This topic contains-

  • Probity in Governance – Definition, requirements and principles.

Probity of governance is a process of ensuring accountability, maintaining integrity, and ensuring compliance with processes to preserve public confidence in Government processes and avoiding the potential for misconduct, fraud and corruption. So, it implies a good governance

  • Concept of public service – Definition and need.
  • Concept of welfare state
  • Information sharing and Transparency in Government – Right to Information and E-Governance.
  • Code of ethics and Code of Conduct– Need and Issues vis a vis Civil services.
  • Citizen Charter – Need and Issues.
  • Work culture and related quality of service delivery.
  • Issue of Corruption (Definition, Causes, Institutions, Reforms and legal protections).

Sources

  • Youth Destination website.
  • The Hindu.
  • 2nd Administrative Reforms Commission Report, Ethics in Governance and Code of Conduct

Previous year question paper / इस बिंदु से पूछे गए गत वर्ष के प्रश्न पत्र


QUE: – Distinguish between “Code of ethics” and “Code of conduct” with suitable examples. उपयुक्त उदाहरणों सहित “सदाचार-हिंसा और “आचार-संहिता” के बीच विभेदन कीजिये. (2018)

 

QUE: – Discuss the Public Services Code as recommended by the 2nd Administrative Reforms Commission.  द्वितीय प्रशासनिक सुधाार आयोग द्वारा सिफ़ारिशकृत (अनुशंसित) लोक सेवा संहिता की विवेचना कीजिए। (2016)

 

QUE: – What is meant by conflict of interest? Illustrate with examples, the difference between the actual and potential conflicts of interest.  हित-विरोधिता से क्या तात्पर्य है? वास्तविक और सम्भावित हित-विरोधिताओं के बीच के अंतर को उदाहरणों द्वारा स्पष्ट कीजिए. (2018)

 

QUE: – “If a country is to be corruption free and become a nation of beautiful minds, I strongly feel there are three key societal members who can make a difference. they are father, the mother and the teacher.” – A. P. J. Abdul Kalam. Analyse. “मेरा दृढ़ विश्वास है कि यदि किसी राष्ट्र को भ्रष्टाचार मुक्त और सुंदर मनों वाला बनाता हैं, तो उसमें समाज के तीन प्रमुख लोग अंतर ला सकते हैं, वे हैं पिता, माता एवं शिक्षक।” – ए.पी.जे. अब्दुल कलाम । विश्लेषण कीजिए। (2017)

 

QUE: – It is often said that poverty leads to corruption. However, there is no dearth of instances where affluent and powerful people indulge in corruption in a big way. What are the basic causes of corruption among people? Support your answer with examples. अक्सर कहा जाता है कि निर्धानता भ्रष्टाचार की ओर प्रवृत्त करती है। परन्तु, ऐसे भी उदाहरणों की कोई कमी नहीं है जहाँ सम्पन्न एवं शक्तिशाली लोग बड़ी मात्र में भ्रष्टाचार में लिप्त हो जाते हैं। लोगों में व्याप्त भ्रष्टाचार के आधारभूत कारण क्या हैं? उदाहरणों के द्वारा अपने उत्तर को सम्पुष्ट कीजिए। (2014)

 

Case-Study: Obliging to minister’s wishes for land-deal (2018)

QUE: –  As a senior officer in the Ministry, you have access to important policy decisions and upcoming big announcements such as road constructions projects before they are notified in the public domain. The Ministry is about to announce a mega road project for which the drawings are already in place. Sufficient care was taken by the planners to make use of the government land with the minimum land acquisition from private parties. Compensation rate for private parties was also finalized as per government rules. Care was also taken to minimize deforestation. Once the project is announced, it is expected that there will be a huge spurt in real estate prices in and around that area. Meanwhile, the Minister concerned insists that you realign the road in such a way that it comes closer to his 20 acres farmhouse. He also suggests that he would facilitate the purchase of a big plot of land in your wife name at the prevailing rate which is very nominal, in and around the proposed mega road project. He also tries to convince you by saying that there is no harm in it as he is buying the land legally. He even promises to supplement your savings in case you do not have sufficient funds to buy the land. However, by the act of realignment, a lot of agricultural lands has to be acquired, thereby causing a considerable financial burden on the government, and also the displacement of the farmers. As if this is not enough, it will involve cutting down of a large number of trees denuding the area of its green cover. Faced with this situation, what will you do? Critically examine various conflicts of interest and explain what your responsibilities are as a public servant. 

अपने मंत्रालय में एक वरिष्ठ अधिकारी होने के नाते आपकी पहुँच महत्त्वपूर्ण नीतिगत निर्णयों तथा आने वाली बड़ी घोषणाओं, जैसे सड़क निर्माण परियोजनाएँ, तक जनता के अधिकार-क्षेत्र में जाने से पहले हो जाती है. मंत्रालय एक बड़ी सड़क निर्माण योजना की घोषणा करने वाला है जिसके लिए खाके तैयार हो चुके हैं. नियोजकों ने इस बात का पूरा ध्यान रखा है कि सरकारी भूमि का अधिक-से-अधिक उपयोग किया जाए ताकि निजी भूमि का कम-से-कम अधिग्रहण करना पड़े. निजी भूमि के मालिकों के लिए क्षतिपूर्ति की दरें भी सरकारी नियमों के अनुसार निर्धारित कर ली गई हैं. निर्वनीकरण कम-से-कम हो इसका भी ध्यान रखा गया है. ऐसी आशा है कि परियोजना की घोषणा होते ही उस क्षेत्र और आसपास के क्षेत्र की भूमि की कीमतों में भारी उछाल आएगी.

इसी बीच, सम्बंधित मंत्री ने आपसे आग्रह किया कि सड़क का पुनः संरेखण इस प्रकार किया जाए जिससे सड़क मंत्री के 20 एकड़ के फ़ार्म हाउस के पास से निकले. इसके साथ मंत्री ने यह भी सुझाव दिया कि वह आपकी पत्नी के नाम, प्रस्तावित बड़ी सड़क परियोजना के आसपास एक बड़ा भूखंड प्रचलित दरों पर जो कि नाममात्र की हैं, क्रय करने में सहायता करेंगे. मंत्री ने आपको यह भी विश्वास दिलाने का प्रयास किया कि इसमें कोई नुकसान नहीं है क्योंकि भूमि वैधानिक रूप से खरीदी जा रही है. वह आपसे यह भी वादा करता है कि यदि आपके पास पर्याप्त धनराशि नहीं है, तो उसकी पूर्ति में भी आपकी सहायता करेगा. लेकिन सड़क के पुनःसंरेखण में बहुत-सी कृषि-योग्य भूमि का अधिग्रहण करना पड़ेगा, जिससे सरकार पर काफी वित्तीय भार पड़ेगा, तथा किसान भी विस्थापित होंगे. केवल यह ही नहीं, इसके चलते बहुत सारे पेड़ों को भी कटवाना पड़ेगा, जिससे पूरे क्षेत्र का हरित आवरण समाप्त हो जाएगा.

इस परिस्थिति का सामना होने पर आप क्या करेंगे? विभिन्न प्रकार के हित-द्वन्द्वों का समालोचनात्मक परीक्षण कीजिए तथा स्पष्ट कीजिए कि एक लोक सेवक होने के नाते आपके क्या दायित्व हैं? (2018)

 

Case-Study: illegal building collapse? (2017)

QUE: – A building permitted for three floors, while being extended illegally to 6 floors by a builder, collapses. As a consequence, a number of innocent labourers including women and children died. These labourers are migrants of different places. The government immediately announced cash relief to the aggrieved families and arrested the builder. Give reasons for such incidents taking place across the country. Suggest measures to prevent their occurrence.

एक मकान जिसे तीन मंजिल बनाने की अनुमति मिली थी, उसे अवैध रूप से निर्माणकर्ता द्वारा छ: मंजिला बनाया जा रहा था और वह ढह गया। इसके कारण कई निर्दोष मजदूर जिनमें महिलाएँ व बच्चे भी शामिल थे, मारे गए। ये सब मजदूर भिन्न-भिन्न स्थानों से आए हुए थे। सरकार द्वारा तुरंत मृतक परिवारों को नकद-मुआवज़ा घोषित किया गया और निर्माणकर्ता को गिरफ़्तार कर लिया गया। देश में होने वाली इस प्रकार की घटनाओं के कारण बताइए। इस प्रकार की घटनाओं को रोकने के लिए अपने सुझाव दीजिए।

 

Case-Study: Opinion as honest officer (2017)

QUE: – You are an honest and responsible civil servant. You often observe the following:

     (a) There is a general perception that adhering to ethical conduct one may face difficulties to oneself and cause problems for the family, whereas unfair practices may help to reach the career goals.

    (b) When the number of people adopting unfair means is large, a small minority having a penchant towards ethical means makes no difference.

   (c) Sticking to ethical means is detrimental to the larger developmental goals

   (d) While one may not involve oneself in large unethical practices, but giving and accepting small gifts makes the system more efficient.

Examine the above statements with their merits and demerits. 

आप एक ईनामदार और जिम्मेदार सिविल सेवक हैं। आप प्राय: निम्नलिखित को प्रेक्षित करते हैं:

   (a) एक सामान्य धारणा है कि नैतिक आचरण का पालन करने से स्वयं को भी कठिनाइयों का सामना करना पड़ सकता है और परिवार के लिए भी समस्याएँ पैदा हो सकती हैं, जबकि अनुचित आचरण जीविका लक्ष्यों तक पहुँचने में सहायक हो सकता है।

  (b) जब अनुचित साधनों को अपनाने वाले लोगो की संख्या बड़ी होती है, नैतिक साधन अपनाने वाले अल्पसंख्यक लोगों से कोई फर्क नहीं पड़ता ।

  (c) नैतिक तरीकों का पालन करना बृहत् विकासात्मक लक्ष्यों के लिए हानिकारक है ।

  (d) चाहे कोई बड़े अनैतिक आचरण में सम्मिलित न हो, लेकिन छोटे-मोटे उपहारों का आदान-प्रदान प्रणाली को अधिक कुशल बनाता है।

उपर्युक्त कथनों की, उनके गुणों और दोषों सहित जाँच कीजिए।

 

Case-Study: “Shivaji-the Boss”: Movie plot (2016)

QUE: –Saraswati was a successful IT professional in USA. Moved by the patriotic sense of doing something for the country she returned to India. Together with some other like-minded friends, she formed an NGO to build a school for a poor rural community. The objective of the school was to provide the best quality modern education at a nominal cost. She soon discovered that she has to seek permission from a number of Governments agencies.  The rules and procedures were quite confusing and cumbersome. What frustrated her most was the delays, callous attitude of officials and constant demand of bribes. Her experience and the experience of many others like her has deterred people from taking up social service projects. A measure of Government control over voluntary social work is necessary. But it should not be exercised in a coercive or corrupt manner. What measures can you suggest to ensure that due control is exercised but well meaning, honest NGO efforts are not thwarted? 

सरस्वती यू.एस.ए. में सूचना प्रौद्योगिकी की एक सफ़ल पेशेवर थी। अपने देश के लिए कुछ करने की राष्ट्र-भावना से प्रेरित होकर वह वापस भारत आई। उसने गरीब ग्रामीण समुदाय के लिए एक पाठशाला निर्माण के लिए एक-जैसे विचारों वाले कुछ मित्रें के साथ मिलकर एक गैर-सरकारी संगठन बनाया। पाठशाला का लक्ष्य नाममात्र की लागत पर उच्च स्तरीय आधुनिक शिक्षा प्रदान करना था। उसने जल्दी ही पाया कि उसे कई सरकारी ऐजेन्सियों से अनुमति लेनी होगी। नियम एवं प्रक्रियाएँ काफ़ी अस्पष्ट एवं जटिल थी। अनावश्यक देरियों, अधिकारियों की कठोर प्रवृत्ति एवं घूस की लगातार माँग से वह सबसे ज्यादा हतोत्साहित हुई। उसके एवं उस जैसे दूसरों के अनुभव ने लोगों को सामाजिक सेवा परियोजनाओं को लेने से रोका हुआ है। स्वैच्छिक सामाजिक कार्य पर सरकारी नियन्त्रण के उपाय आवश्यक हैं। परन्तु इन्हें बाध्यकारी या भ्रष्टरुप में प्रयोग में नहीं लिया जाना चाहिए। आप क्या उपाय यह सुनिश्चित करने के लिए सुझाएँगे कि जिससे आवश्यक नियंत्रण के साथ नेक इरादों वाले ईमानदार ग़ैर-सरकारी संगठन के प्रयासों में बाधा नहीं आए?

 


सामान्य अध्ययन IV –टॉपिक 8

उपर्युक्त विषयों पर मामला संबंधी अध्ययन (केस स्टडीज़)।

Case Studies on above issues.


This topic is the final culmination point of all the other topics mentioned above. One is required to answer question based on a given case study, the issue here is that there is no right or wrong answer when answering questions on case-study, but it is all about being reasonable and ethically-morally right based on ones thought process and experiences.

Sub-topics/Issues important are –

  • Gender Issues
  • Mal-governance
  • Environmental Issues
  • Current Affairs Issues
  • Corruption
  • Human Development factors.
  • Ethical Dilemmas.

Previous year question paper / इस बिंदु से पूछे गए गत वर्ष के प्रश्न पत्र